मध्य प्रदेश

Modi सरकार को भूमि अधिग्रहण की तरह कृषि कानून को लेना पड़ेगा वापस: डोटासरा

[ad_1]

जयपुर: राजस्थान में कांग्रेस की सरकार गिराने के षड्यंत्र को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के बयान के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने भाजपा सरकार पर करारा हमला बोला है. डोटासरा ने कहा कि पूरा देश जानता है कि नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और अमित शाह (Amit Shah) ने किसके इशारे पर काले कानून बनाए है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी पहले किसानों की आय दुगनी करनी और किसानों के लाखों बेटों को रोजगार देने का वादा करते थे. लेकिन हकीकत में हुआ कुछ नहीं. अब प्रदेश की जनता खुद प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह से सवाल पूछना चाहती है कि आपके जुमलो का क्या हुआ.

डोटासरा ने कहा कि भाजपा तीनों कृषि कानूनों (Agricultural Law) को किसान हितेषी बता रही है. लेकिन हकीकत यह है कि इन बिलों पर किसानों से कोई चर्चा नहीं की गई. पीसीसी चीफ ने कहा कि किसानों के काले कानून के विरोध में कांग्रेस पार्टी एवं किसान है. आठ दिसम्बर के प्रस्तावित भारत बंद को कांग्रेस ने समर्थन दिया है.

कांग्रेस का भारत बंद को समर्थन
उन्होंने कहा कि आठ दिसम्बर के दिन पूरा राजस्थान ऐतिहासिक बंद होगा. जब तक केंद्र सरकार इन बिलों को वापस नहीं लेती है प्रदेश में विरोध जारी रहेगा. डोटासरा ने  कहा कि जिस तरह केन्द्र सरकार को मजबूरी में भूमि जमीन अधिग्रहण बिल वापस लेना पड़ा ठीक उसी तरह इन काले कानूनों को भी वापस लेना पड़ेगा.

पीसीसी चीफ ने कहा कि पिछले दिनों कांग्रेस संभागवार कार्यकर्ताओं से चर्चा की थी. इसमें दो मुद्दे महत्वूपर्ण रुप से सामने आए थे. दोनों प्रस्ताव मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को दिए है. सोमवार को होने वाली केबिनेट की बैठक में इन पर मुहर लगने की संभावना है. केबिनेट की बैठक में मंत्रियों की तरह विधायक सहित अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा जनसुनवाई निश्चित करने के प्रस्ताव को मुख्यमंत्री से मंजूरी मिलने की संभावना है. इसके अलावा किसानों को अब कृषि फार्म एवं पीने के पानी के लिए ट्यूवबैल खोदने के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा.

‘BJP के घिनौने षड्यंत्र को देश ने देखा’
डोटासरा ने राजस्थान बीजेपी के नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि कटारिया, गजेंद्र सिंह और सतीश पूनिया से पूछना चाहता हूं कि क्या लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई सरकार को गिराने का षड्यन्त नहीं किया गया है. क्या राज्यपाल को विधानसभा सत्र बुलाने से नहीं रोका गया. राजस्थान में बीजेपी ने जो घिनोना षड्यंत्र किया उसे पूरे देश ने देखा. पैसे का षड्यंत्र चला, विधायकों को खरीदने की कोशिश हुई, लेकिन हमारे विधायकों की बहादुरी से उनके कुप्रयास सफल नहीं हो सके. 

‘BJP के नेता बौखला गए’
गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि बीजेपी के नेता पूरी तरह बौखला गए है. अमित शाह पूछ रहे हैं कि सरकार गिराने के लिए दिया गया धन कहा गया. हमारे पास और भी तथ्य हैं जिनसे साबित होता है कि सरकार गिराने का षड्यंत्र किया था.मुख्यमंत्री ने अमित शाह, धर्मेंद्र प्रधान और जफर इस्लाम का नाम लेकर उनके कूटरचित खेल की जानकारी आमजन के सामने रखी. लेकिन प्रदेश भाजपा के नेता सतीश पूनिया,गुलाबचंद कटारिया,राजेंद्र राठौड़ गजेंद्र सिंह शेखावत पूरी तरह से बौखलाहट में इसका खंडन कर रहे हैं. गजेंद्र सिंह शेखावत भी स्वयं इस षड्यंत्र में शामिल थे. उनका विधायकों से खरीद-फरोख्त की कोशिश के ऑडियो टेप भी सामने आ चुके हैं.

5 साल पूरा करेगी सरकार
पीसीसी चीफ ने कहा कि कांग्रेस सरकार पूरे पांच साल राज करेगी और इसके आने वाले पांच सालों तक भी भाजपा नहीं आने वाली है. भाजपा विपक्ष की भूमिका भी सही तरीके से नहीं निभा पा रही है. उन्होंने कहा कि खुद भाजपा में फूट है. छह नेता अपने-अपने आप को भविष्य का सीएम बता रहे हैं. विधानसभा में जब सतीश पूनियां बोल रहे थे कि किस तरह उनके ही विधायक छोड़कर चले गए, यह पूरा प्रदेश जानता है.

ये भी पढ़ें-Modi सरकार का रवैया अहंकार-फासीवाद सोच से भरा हुआ: CM गहलोत

 

 



[ad_2]

Source link

Related posts

आग का ऐसा तांडव की 700 किसानों के खेत में खड़ी फसल मिनटों में हो गयी खाक

News Malwa

शिवसेना ने बांधे शिवराज की तारीफ के पुल, जानिए सरकार के किस फैसले ने मोहा मन

News Malwa

जितिन प्रसाद ने थामा ‘कमल’ का साथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- छोटे भाई का स्वागत है

News Malwa