मध्य प्रदेश

Ministry of Civil Aviation को भेजा गया नोएडा एयरपोर्ट का मास्टर प्लान, कई मामलों में खास होगा यह एयरपोर्ट

[ad_1]

गौतमबुद्ध नगर: उत्तर प्रदेश सरकार ने जेवर में प्रस्तावित नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Noida International Airport) का मास्टर प्लान एयरपोर्ट एथॉरिटी ऑफ इंडिया (Airport Authority Of India) को भेज दिया है. गौरतलब है कि करीब एक हफ्ते पहले विकासकर्ता कंपनी ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी (Zurich International Airport AG) ने मास्टर प्लान यमुना प्राधिकरण (Yamuna Authority) और नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) को सौंप दिया था. मंगलवार को मास्टर प्लान नागर विमानन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) को भेजा गया है. मिली जानकारी के अनुसार इसके तकनीकी परीक्षण में करीब एक महीने का समय लगेगा.

किसानों को हो समस्या तो इस टोल फ्री नंबर पर करें कॉल, CM रावत ने कहा- “जल्द होगा समाधान”

ये सुविधाएं होंगी विकसित
जेवर में बनने वाले नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का मास्टर प्लान ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी ने पिछले हफ्ते नियाल को सौंपा था. विकासकर्ता कंपनी ने एयरपोर्ट के चार फेज का मास्टर प्लान तैयार कर लिया है. इसमें टर्मिनल बिल्डिंग, कामर्शियल स्पेश, होटल, कार्यालय, एजूकेशन ट्रेनिंग सेंटर, कार्गो सुविधा और वाहन पार्किंग को शामिल किया गया है. इसके अलावा मेंटीनेंस, रिपेयर, ओवरहॉलिंग की सुविधा विकसित की जाएगी. टर्मिनल बिल्डिंग में ही दिल्ली-वाराणसी हाईस्पीड ट्रेन का स्टेशन भी बनाया जाएगा.

विवाद सुलझाने गए दारोगा, युवक ने डंडे से पीटा, देखें VIDEO

जांच के बाद वापस नियाल के पास आएगा मास्टर प्लान
यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ.अरुणवीर सिंह के मुताबिक, “नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के पास मास्टर प्लान की तकनीकी जांच करने के लिए एक्सपर्ट्स की टीम उपलब्ध नहीं है. इसलिए मास्टर प्लान का तकनीकी परीक्षण नागर विमानन मंत्रालय से करवाया जा रहा है. टेस्ट के बाद मास्टर प्लान वापस आएगा. उसके बाद यमुना प्राधिकरण से मास्टर प्लान को स्वीकृत दिलाई जाएगी. आखिर में नियाल के बोर्ड में रखा जाएगा”

खाली पेट चाय की चुस्की आपको बीमार, बहुत बीमार कर सकती है, जानिए क्यों?

टर्मिनल बिल्डिंग में होगा दिल्ली-वाराणसी हाईस्पीड रेल का स्टेशन
इस एयरपोर्ट के मास्टर प्लान में कॉमर्शियल गतिविधियों के लिए भी बड़ा स्थान रखा गया है. टर्मिनल बिल्डिंग में कॉमर्शियल स्पेश चिन्हित कर लिया गया है. बिल्डिंग में दिल्ली-वाराणसी हाईस्पीड रेलवे स्टेशन बनाया जाएगा, जिससे यात्री आसानी से रेल और हवाई जहाज के बीच आवाजाही कर सकें. बता दें कि ऐसी सुविधा वाला यह अपने आप में अनोखा एयरपोर्ट होगा. टर्मिनल बिल्डिंग में सभी सुविधाएं एक ही छत के नीचे विकसित की जाएंगी.

दबंगो ने सरेराह वकील को लोहे की रॉड से पीटा, देखें Video

2023 से शुरू होगी हवाई सेवा
नोएडा एयरपोर्ट 1,334 हेक्टेयर जमीन पर विकसित किया जा रहा है. यह चार फेज में बनाया जाएगा. पहले फेज में दो रनवे बनाए जाएंगे. हालांकि वर्ष 2023 में एयरपोर्ट एक रनवे के साथ हवाई सेवा शुरू करेगा, लेकिन शुरुआत में 1.20 करोड़ यात्री सालाना इस एयरपोर्ट का उपयोग करे सकेंगे. नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से सभी तरह के यात्री विमान उड़ान भर सकेंगे.

देश में घरेलू उड़ानों का होगा सबसे बड़ा केंद्र
नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर एयरब्रिज की सुविधा उपलब्ध होगी. करीब 75 प्रतिशत घरेलू उड़ान यहीं से होंगी. यह एयरपोर्ट देश में घरेलू उड़ानों का सबसे बड़ा केंद्र बन जाएगा. इस एयरपोर्ट में रिजर्व कार पार्किंग की भी सुविधा होगी.

सर्दियों में जरूर करें गुड़ का इस्तेमाल, इससे होने वाले फायदे आपको कर देंगे हैरान

एयरपोर्ट के 24 हेक्टेयर क्षेत्र में होटल, कार्यालय, ट्रेनिंग सेंटर बनाए जाएंगे. एयरपोर्ट परिसर में कार्गो की सुविधा भी होगी. इस एयरपोर्ट पर विमानों की मेंटीनेंस, रिपेयर, ओवरहालिंग (एमआरओ हब) की सुविधा भी होगी. विकासकर्ता कंपनी दस साल के अंदर इस सुविधा के लिए जरूरी ढांचा विकसित करेगी. यमुना प्राधिकरण के सीईओ डा.अरुणवीर सिंह ने बताया कि विकासकर्ता कंपनी नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चारों फेज का मास्टर प्लान सौंप चुकी है. तकनीकी परीक्षण के लिए इसे नागर विमानन मंत्रालय को भेजा गया है.

WATCH LIVE TV

 



[ad_2]

Source link

Related posts

दमोह से कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन ने कहा- हो सकती है मेरी हत्या, केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने बताया हास्यास्पद

News Malwa

DL News: ड्राइविंग लाइसेंस और RC बनवाने के नियमों में इन राज्यों ने किया फिर से बड़ा बदलाव, जानें सबकुछ– News18 Hindi

News Malwa

MP News Live Updates : सीधी बस हादसे के बाद जबलपुर में बसों के दस्तावेज़ों की जांच– News18 Hindi

News Malwa