मध्य प्रदेश

Jabalpur Viral Video: ड्राय रन में ऐसे सीट से उछली नर्स, जैसे इन्हीं को लग रही है कोरोना का पहली वैक्सीन

[ad_1]

कोरोना वैक्सीन के ड्राय रन से ही घबरा गई महिला नर्स.

कोरोना वैक्सीन के ड्राय रन से ही घबरा गई महिला नर्स.

कोरोना के वैक्सीनेशन की तैयारियों को लेकर जबलपुर में किए गए ड्राय रन के दौरान एक दिलचस्प मामला सामने आया, जिसने प्रशासनिक खामियों को भी उजागर किया.

  • Last Updated:
    January 9, 2021, 12:11 PM IST

जबलपुर. शहर में हुए कोरोना वैक्सीन के ड्राय रन में अजीबो-गरीब हास्यास्पद मामला देखने को मिला. एक नर्स इस ड्राय रन यानी महज रिहर्सल में ऐसे घबरा गईं जैसे पूरे विश्व में उन्हें ही कोरोना वैक्सीन का पहला डोज दिया जा रहा हो. डॉक्टर्स ने उन्हें बहुत समझाया लेकिन वो नहीं मानी.

कोरोना के खात्मे के लिए वैक्सीन का इंतजार देश भर में बेसब्री से भले ही किया जा रहा है, लेकिन इसको लेकर लोगों के मन में डर और दहशत अब भी बरकरार है. कोरोना के वैक्सीनेशन की तैयारियों को लेकर जबलपुर में किए गए ड्राय रन के दौरान एक दिलचस्प मामला सामने आया, जिसने प्रशासनिक खामियों को भी उजागर किया.


नर्स ने ड्राय रन में शामिल होने से किया इनकारदरअसल वैक्सीनेशन के लिए  चयनित लोगों की सूची में ऐसे कर्मचारियों के भी नाम शामिल कर दिए गए थे, जिनकी वैक्सीनेशन में ड्यूटी लगी थी. फिर क्या था मोबाइल पर संदेश मिलते ही जबलपुर की नर्स विनीता विलियम्स अपनी ड्यूटी करने के लिए वैक्सीनेशन सेंटर पर पहुंची. इस बीच वहां मौजूद स्टाफ ने उनको मरीज समझ कर टीका लगाने की मॉक ड्रिल शुरू की. स्वास्थ्य कर्मी महिला को जब मामला कुछ अटपटा लगा तो उन्होंने इस पर एतराज जताया और टीका लगवाने की प्रक्रिया में शामिल होने से इनकार कर दिया.

विश्वसनीयता पर जताया शक

स्वास्थ्य कर्मी होने के बावजूद भी महिला टीका लगवाने से बच रही थी. नर्स के रूप में काम करने वाली महिला को वैक्सीन की  विश्वसनीयता पर शक है. लिहाजा, उसने वैक्सीनेशन सेंटर से ही अपने पति को फोन किया और अफसरों को दो टूक कह दिया कि वह ड्यूटी करने आई थी ना कि मरीज के रूप में कोरोना टीका लगवाने. हालात की गंभीरता को भांपते हुए चिकित्सकों ने मौके पर पहुंचकर महिला को समझाइश दी. डॉक्टरों का कहना है कि शासन द्वारा निर्धारित एप के जरिए संबंधित लोगों को संदेश भेजे गए थे. डॉक्टरों ने साफ किया कि ड्राय रन के दौरान किसी को भी कोरोना की वैक्सीन नहीं दी जा रही है बल्कि तैयारियों को परखने ही स्वास्थ्य कर्मियों और चयनित मरीजों को वैक्सीनेशन सेंटर में बुलवाया गया है.






[ad_2]

Source link

Related posts

परफॉर्मेंस ग्रेड इंडेक्स रिपोर्ट: मध्यप्रदेश में सरकारी स्कूलों की हालत दयनीय, 16 मापदंडों में तीसरी ग्रेड पर

News Malwa

अनजान नंबर से आने वाला वीडियो कॉल रिसीव न करें : दूसरी तरफ होगी न्यूड महिला और फिर….

News Malwa

MP में कंस्ट्रक्शन काम में लगी महिला ठेकेदारों को अब नहीं देना होगी रजिस्ट्रेशन फीस, सरकार ने दी छूट

News Malwa