देश

Farmers Protest: दिल्ली में आज भी ट्रैफिक वाली ‘टेंशन’! किसानों का प्रदर्शन 11वें दिन भी जारी

[ad_1]

नई दिल्ली: कृषि कानूनों (Agriculture Law) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों और सरकार के बीच शनिवार को विज्ञान भवन में हुई पांचवें दौर की बातचीत भी बेनतीजा रही और किसानों का प्रदर्शन (Farmers Protest) लगातार 11वें दिन रविवार (6 दिसंबर) को भी जारी है. पांचवे दौर की बातचीत में भी किसान तीनों कानून वापस लेने की मांग पर अड़े रहे और अब दोनों पक्षों के बीच अगले दौर की बातचीत 9 दिसंबर को होगी.

दिल्ली में आज भी ट्रैफिक वाली ‘टेंशन’

किसानों के प्रदर्शन (Farmers Protest) की वजह से दिल्ली के हरियाणा और उत्तर प्रदेश से सटे कई इलाकों में आज भी लोगों को जाम की समस्या से जूझना पड़ सकता है, क्योंकि दिल्ली से लगी कई सीमाएं आज भी बंद रहेंगी. सिंघु बॉर्डर पर बड़ी संख्या में किसान अब भी जमे हुए हैं, वही यूपी गेट पर भी किसानों का धरना जारी है. प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस अलर्ट पर है और ट्रैफिक पुलिस ने लोगों को वैकल्पिक रास्ता चुनने की सलाह दी है.

ये भी पढ़ें- जब होठों पर अंगुली रख आधे घंटे मौन रहे किसान नेता, जानिए 5 घंटे मीटिंग में क्या-क्या हुआ?

लाइव टीवी

कृषि मंत्री ने कहा- MSP पर शक बेबुनियाद

किसानों के साथ हुई बैठक में कोई नतीजा ना निकलने के बाद कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने मीडिया से बात की. उन्होंने MSP पर एक बार फिर ये साफ कर दिया कि MSP पर शक बेबुनियाद है. साथ ही कृषि मंत्री ने कहा कि 9 तारीख की बैठक में एक बार फिर रास्ता निकालने की कोशिश की जाएगी.

‘पहले बिल वापसी, फिर अन्य मुद्दों पर बात’

किसानों का कहना था कि सरकार बिल वापस लेने के पक्ष में नहीं है और वो दिल्ली से जाने के पक्ष में नहीं हैं. साथ ही किसानों का कहना है कि उनकी पहली मांग बिल वापसी की है, इसके बाद ही वो बाकी मुद्दों पर सरकार से बात करेंगे. किसानों के साथ होने वाली इस बैठक से पहले शनिवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने भी चार बड़े मंत्रियों के साथ बैठक की. प्रधानमंत्री आवास पर करीब 2 घंट तक चली इस मीटिंग में गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी शामिल थे.

पटना में महागठबंधन का विरोध प्रदर्शन

दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन (Farmers Protest) को देश के अलग अलग किसान संगठन अपना समर्थन दे रहे हैं, लेकिन इस बीच इस आंदोलन में कई राज्यों की पार्टियां भी शामिल हो रही हैं. कृषि कानून के खिलाफ पटना के गांधी मैदान में शनिवार को महागठबंधन ने विरोध प्रदर्शन किया. प्रशासन ने कोरोना के कारण प्रदर्शन की इजाजत नहीं दी तो RJD नेताओं ने मैदान के गेट के बाहर ही धरना देना शुरू कर दिया.



[ad_2]

Source link

Related posts

Jammu Kashmir में इन लोगों को मिलेगा शरणार्थी पैकेज का लाभ, गृह मंत्री Amit Shah ने दिया निर्देश

News Malwa

Delhi: कार में बिना मास्क लगाए घूम रहा था कपल, पुलिस ने जब रोका तो देने लगे धमकी

News Malwa

CM Yogi Adityanath ने Akhilesh Yadav के परिवार की तुलना महाभारत के पात्रों से की, SP प्रमुख ने किया पलटवार

News Malwa