मध्य प्रदेश

सीकर: पंचायत चुनाव में दो दिग्गजों की दांव पर प्रतिष्ठा, शनिवार को जनता करेगी फैसला

[ad_1]

सीकर: श्रीमाधोपुर पंचायत समिति में प्रधान पद का चुनाव दो राजनीतिक दिग्‍गजों के गुट का प्रतिष्‍ठा का सवाल बना हुआ है. कांग्रेस के विधायक दीपेन्‍द्र सिंह व भाजपा के पूर्व विधायक झाबर सिंह खर्रा के लिए यह पद प्रतिष्ठा का सवाल बना हुआ है. कांग्रेस सीट को बरकरार रखने के लिए प्रयास कर रही है. वहीं, भाजपा प्रधान के पद पर काबिज होकर अपना गढ़ बनाने के लिए कडी मेहनत में लगी है. पंचायत समिति के 23 वार्डो के लिए मतदान शनिवार को होगा.

दरअसल, श्रीमाधोपुर में वैसे तो भाजपा का कई सालों से कब्‍जा रहा है. इसके बाद पिछली बार कांग्रेस इस पर काबिज हो गई. अब भाजपा व कांग्रेस के नेता इस पर काबिज होने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं. भाजपा के पूर्व विधायक झाबरसिंह खर्रा की पत्नी शांति देवी वार्ड 9 से तथा पुत्र दुर्गासिंह खर्रा वार्ड 14 से भाजपा की टिकट से चुनाव मैदान में हैं.

कांग्रेस के दिग्गज नेता दीपेन्द्र सिंह शेखावत श्रीमाधोपुर से विधायक हैं. कांग्रेस की पूरी चुनाव कमान उनके पास है. दूसरी ओर पूर्व विधायक झाबरसिंह खर्रा के बूते भाजपा यहां फिर से अपना गढ़ बनाना चाह रही है तो स्‍थानीय विधायक दीपेन्‍द्र सिंह शेखावट काग्रेस का प्रधान बनाने के लिए मेहनत कर रहे हैं.

हालांकि, अस्‍वस्‍थता के चलते दीपेंद्र सिंह की कमान उनके पुत्र बालेंदु सिंह शेखावत ने संभाल रखी है और वे प्रचार में जुटकर कांग्रेस को जीताने के लिए मेहनत कर रहे हैं. दोनों ही दलों के समीकरण कई वार्डों में निर्दलीय बिगाड रहे हैं.

श्रीमाधोपुर पंचायत समिति के वार्ड 14 से पूर्व विधायक के पुत्र दुर्गासिंह खर्रा भाजपा से चुनाव मैदान में हैं. यहां कांग्रेस के साथ सीधी टक्कर है. वहीं. पूर्व विधायक झाबरसिंह खर्रा की पत्नी शांति देवी वार्ड 9 डेरावाली से भाजपा की टिकट से चुनाव मैदान में हैं. पूर्व सरपंचमोतीराम कल्याणपुरा की पुत्र वधु व पूर्व पंचायत समिति सदस्य प्रमोद कुमार की पत्नी राजरानी भाजपा की टिकट से वार्ड 11 से चुनाव लड़ रही हैं.

भाजपा जिला उपाध्यक्ष व पूर्व उप प्रधान बनवारीलाल यादव की पत्नी पूर्व सरपंच श्रवणी देवी वार्ड 1 से भाजपा से चुनाव मैदान में हैं. उनका भी मुकाबला कांग्रेस से है. कुर्सी पर खर्रा परिवार की नजर पूर्व विधायक झाबरसिंह खर्रा वर्ष 2005 से लगातार दो बार प्रधान रह चुके हैं. उनकी माता स्व. सुरजी देवी भी पंचायत समिति प्रधान रहीं थी. प्रधान की कुर्सी तक पहुंचने के लिए इस चुनाव में पूर्व विधायक खर्रा की पत्नी व पुत्र भाजपा की टिकट से अलग-अलग वार्डो से मैदान में हैं.



[ad_2]

Source link

Related posts

कृषि बिल पर तकरार के बीच PM मोदी आखिर MP के किसानों से आज क्या कहने वाले हैं!

News Malwa

VHP छोड़कर कांग्रेस में शामि‍ल हुए बाबूलाल चौरसि‍या, बोले- हिन्दू महासभा ने मुझे अंधेरे में रखकर कराई थी गोडसे की पूजा

News Malwa

कांग्रेस नेता हत्याकांड: सुनवाई कर रहे जज ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- मेरे साथ कुछ भी हो सकता है

News Malwa