देश

सिर में गोली मार के बेरहमी से हत्या करने वाले का Encounter, Police को मिली कामयाबी

[ad_1]

रतलाम: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के रतलाम जिले में पुलिस मुठभेड़ में मारा गया शातिर बदमाश और लुटेरा दिलीप देवल ऐसा अपराधी था जो लूट की वारदात को अंजाम देने के बाद कोई निशान नहीं छोड़ता था. इतना ही नहीं कोई गवाह ही न रहे इसके लिए वह सामने आए व्यक्ति को गोली मारकर मौत के घाट उतार देता था.

गौरतलब है कि रतलाम में उसे इसी तरह की वारदात करना महंगा पड़ गया और वह पुलिस की गोली का निशाना बन गया. रतलाम में छोटी दिवाली के दिन एक परिवार को दिलीप ने अपना निशाना बनाया और लूट के बाद उस परिवार के तीनों सदस्यों के सिर पर गोली मार दी. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) पुलिस (Police) के लिए इस हत्याकांड को सुलझाना काफी मुश्किल हो गया था. लगातार जगह-जगह दबिश दी जा रही थी, सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे थे.

बता दें कि रतलाम पुलिस ने तिहरे हत्याकांड के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया, जिनमें दो गुजरात (Gujarat) के दाहोद से और एक रतलाम से हैं. इसके बाद पुलिस ने आरोपी दिलीप की तलाश शुरू की और गुरुवार रात को उसके खाचरोद मार्ग क्षेत्र में होने की सूचना मिली. पुलिस ने घेराबंदी की और आरोपी दिलीप गोलीबारी में मारा गया.

ये भी पढ़ें- ‘हवा’ में हो रही थी Gold Smuggling, फिर ऐसे हुआ खुलासा, देखिए PHOTOS

रतलाम के पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने बताया कि दिलीप पिछले कुछ समय से रतलाम में रह रहा था और वह यहां चार हत्याएं कर चुका था, इससे पहले उसने गुजरात के दाहोद में दो हत्या की थी. वह एक साइको किलर बदमाश था. वह लूट आदि की वारदात को अंजाम देने के बाद व्यक्ति के सिर में गोली मारकर हत्या कर देता था. वह दाहोद से जमानत पर रिहा होने के बाद से बीते दो साल से फरार चल रहा था.

पुलिस के मुताबिक, दिलीप ने रतलाम में आकर किराए का मकान लिया था और वह यहां नाम बदलकर रह रहा था. वह अपने को हिमांशु सोलंकी बताता था. इतना ही नहीं पूर्व परिचित एक महिला के सहारे वह लोगों से दोस्ती बनाता और संबंधित के बारे में सारी जानकारी जुटाता था. इसके बाद अपनी योजना को अंजाम देता था.

रतलाम में एक परिवार के तीन लोगों की हत्या करने के बाद पुलिस ने इस हत्याकांड से जुड़े लोगों को गिरफ्तार किया मगर दिलीप उनकी पकड़ से बाहर था. बताया गया है कि वह जिस मकान में रहता था, उसके सामने के दरवाजे का इस्तेमाल नहीं करता था क्योंकि उसे इस बात की आशंका रहती थी कि कहीं उसका चेहरा किसी सीसीटीवी कैमरे में कैद न हो जाए. वह पीछे के रास्ते से आता-जाता था.

ये भी पढ़ें- योगी सरकार के फैसले से बच्चों की बल्ले-बल्ले, नई शिक्षा नीति के तहत किया बदलाव

गौरतलब है कि दिलीप के अपराध करने का तरीका अलग तरह का था. वह पहले संबंधित परिवार की पूरी रेकी कर लेता था, उससे नजदीकियां बनाता था और फिर वारदात को अंजाम देता था. इतना ही नहीं वह जिस घर में वारदात को अंजाम देता था वहां जिस भी व्यक्ति से सामना होता था उसके सिर में गोली मार देता था.

गुजरात के दाहोद में भी उसने एक व्यापारी को इसी तरह मारा था. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी पुलिस टीम को बधाई दी है. साथ ही इस मुठभेड़ में घायल हुए पुलिस जवानों के स्वस्थ होने की कामना की है.

LIVE TV



[ad_2]

Source link

Related posts

Mamata का PM मोदी को पत्र, बोलीं- Corona Vaccine बनाने में दुनिया से लें मदद, हम जमीन देने के लिए तैयार

News Malwa

Joe Biden ने अमेरिकी लोगों को दिया आश्वासन,Corona Vaccine नहीं करेगे अनिवार्य

News Malwa

आंध्र प्रदेश में भगवान राम की 400 साल पुरानी तोड़ी, BJP ने जगमोहन रेड्डी सरकार पर लगाए ये गंभीर आरोप

News Malwa