मध्य प्रदेश

शहडोल के अस्पताल में नहीं थम रहा बच्चों की मौत का सिलसिला, 3 और की गई जान

[ad_1]

शहडोल: मध्य प्रदेश के शहडोल में कुशाभाऊ ठाकरे  जिला अस्पताल में 3 और बच्चों की मौत हो गई है. जिसके बाद मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर 11 हो चुकी है. 12 घंटे के अंदर अस्पताल में 3 बच्चों की मौत हुई है. 

ये भी पढ़ें-सगाई में मिले गहने लेकर प्रेमी के साथ भाग गई बहन, छोटी बहन ने जहर खाकर दे दी जान

बुढ़ार की एक महिला के 6 महीने में जन्मे प्रीमेच्योर बच्चे की मौत.वहीं पाली से आये 7 महीने के बच्चे की मौत निमोनिया बिगड़ने से बताई जा रही है. जिसे गुरुवार की सुबह 11 बजे गंभीर हालत में अस्पताल लाया गया था.तीसरा बच्चा डिंडोरी के एक परिवार का था.जो 1 महीने का था. बच्चे की मौत वजन कम होना बताया गया है. 

ये भी पढ़ें-नाबालिगों का शोषण करता था प्यारे मियां! अब पीड़िता ने कोर्ट में किया चौंकाने वाला खुलासा

जिला अस्पताल में 6 दिन के भीतर 11 बच्चों की मौत हो चुकी है. इससे पहले भी 72 घंटों में 72 बच्चों ने दम तोड़ा था. पहले हुईं बच्चों की मौत पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए थे. जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया था. प्रदेश के गृह मंत्री के निर्देश पर जबलपुर मेडिकल कॉलेज के साइंटिस्ट दो सदस्यीय टीम शहडोल जांच करने के लिए भेजी गई थी. 

सीएमएचओ डॉ. राजेश पांडे ने बताया था कि सभी बच्चों की मौत एक जैसे कारणों से हुई है. सभी में निमोनिया के लक्षण थे और सभी वेंटिलेटर पर थे. 

सीएमएचओ ने  स्वास्थ्य विभाग के कार्यकर्ताओं को घर-घर भेजने का निर्णय भी लिया था. जिसके तहत कार्यकर्ताओं द्वारा सीजनल बीमारियों का सर्वे कर लोगों को जागरुक करने की बात कही गई थी. 

Alert: इंटरनेट से मिला फेक कस्टमर केयर नंबर, फोन किया तो कट गए 1 लाख रुपए!

परंपराः यहां गोबर में फेंके जाते हैं बच्चे ताकि हेल्दी रहें, डॉक्टर दे रहे हैं चेतावनी

Watch LIVE TV-



[ad_2]

Source link

Related posts

खुलकर सामने आई कांग्रेस की कलहः कांग्रेस विधायक बोले- कमलनाथ के इस फैसले से हारे उपचुनाव

News Malwa

Bhopal: प्यारे मियां मामला, कमलनाथ ने कहा- नाबालिग बच्ची की मौत की CBI जांच हो, अपराध में मप्र नंबर 1

News Malwa

क्या MP में ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई? स्वास्थ्य मंत्री ने दिया ये जवाब

News Malwa