मध्य प्रदेश

मासूमों की कब्रगाह बना बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज, 3 महीने में 92 बच्चों की मौत, जिम्मेदार मौन तो दोषी कौन?

[ad_1]

सागर: सागर के बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में मासूम बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. पिछले तीन महीने में यहां भर्ती कुल 92 बच्चों की मौत हो चुकी है. अकेले नवंबर महीने की में 65 बच्चों की मौत हुई है. इनमें वे बच्चे भी शामिल हैं, जो जिला अस्पताल के स्पेशल न्यूबॉर्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) वार्ड और शिशु वार्ड में एडमिट थे.

ये भी पढ़ें: शहडोल में बच्चों की मौत का सिलसिला जारी, 10 दिन में 13 ने तोड़ा दम, भोपाल तक हलचल

क्या है वजह?
बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में शिशु मृत्यु दर सितंबर में 28% अक्टूबर में 28% और नवंबर में बढ़कर 32% हो गई है, जो संभवत मध्यप्रदेश में सर्वाधिक शिशु मृत्यु दर होगी. इसकी वजह है कि यहां हर दिन मासूमों को जान से हाथ धोना पड़ रहा है. इसके पीछे ड्यूटी डॉक्टरों की कमी बड़ी वजह बताई जा रही है.

बद से बदतर हो रहे हालात
प्रदेश सरकार में सागर जिले से हमेशा कद्दावर मंत्री को जगह मिली है. यही वजह है कि सूबे की सियासत में सागर का अच्छा खासा दखल मााना जाता है. मेडिकल कॉलेज होने के बाद भी यहां स्वास्थ्य सुविधाओं के नाम पर हालात बद से बदतर हैं.

ये भी पढ़ें: तीन युवकों ने दोस्त को घोंपा चाकू, फिर हॉस्पिटल लेकर पहुंचे, डॉक्टर ने मृत बताया तो भाग निकले

पिछले महीने की मौतों का आंकड़ा
नवंबर महीने में बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में 84 बच्चों को इलाज के लिए एसएनसीयू वार्ड में भर्ती किया गया था. इनमें से 28 बच्चों ने दम तोड़ दिया, जबकि शिशु वार्ड में भर्ती 10 बच्चों की मौत हुई है. यही हालात जिला चिकित्सालय के स्पेशल न्यूबॉर्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) वार्ड के हैं, जहां नवंबर महीने में कुल 28 बच्चों ने दम तोड़ा है. पिछले हफ्ते ही यहां 7 बच्चों की मौत हुई थी.

जिम्मेदार नहीं दे रहे कोई जवाब
इस गंभीर मामले में बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज के डीन आर एस वर्मा ने मीडिया से बात करने से इनकार कर दिया. वहीं सिविल सर्जन बच्चों की प्रीमेच्योर डिलीवरी एवं उनका कमजोर होना मौत का कारण बता रहे हैं.
 
कौन हैं दोषी ?
कुछ भी हो करोड़ों रुपए की लागत से निर्मित एसएनसीयू वार्डों में यदि  मासूम बच्चों की जान नहीं बचाई जा रही तो इसके लिए दोषियों की जिम्मेदारी तय किया जाना चाहिए और उन पर कार्रवाई होना चाहिए. इस मामले में मेडिकल कॉलेज के डीन आर एस परमार जैसे अधिकारी भी जांच के घेरे में हैं, क्योंकि जिम्मेदार और जबावदार होने के बाद भी उनकी तरफ से किसी भी तरह का स्पष्टीकरण नहीं दिया गया.

ये भी पढ़ें: NTPC में डिप्लोमा इंजीनियर के पदों पर निकली भर्ती, यहां करें अप्लाई @ntpccareers.net

WATCH LIVE TV



[ad_2]

Source link

Related posts

MP Live News Updates : विधानसभा के बजट सत्र का आज दूसरा दिन, सदन में पेश किया जाएगा धर्म स्वातंत्र्य अध्यादेश 2020

News Malwa

मध्य प्रदेश की जनता से बोले CM शिवराज- आमजन के लिए फूल, दुष्टों के लिए वज्र है मेरी सरकार

News Malwa

Masik Durga Ashtami 2021: ज्येष्ठ मासिक दुर्गाष्टमी कब है? जानें तारीख और शुभ मुहूर्त

News Malwa