मध्य प्रदेश

बिना तकनीकी जांच के घरों में लगाए स्मार्ट मीटर, STF की जांच में निर्माता और प्रबंधन निकला लापरवाह

[ad_1]

लखनऊ: पावर कॉर्पोरेशन मैनेजमेंट द्वारा लगाए गए स्मार्ट मीटर (Smart Meter) उपभोक्ताओं की परेशानी बन गए हैं. जन्माष्टमी पर स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन मामले में स्पेशल टास्क फोर्स (STF) को कई चौंकाने वाले तथ्य मिले हैं. जांच में पता लगा है कि राज्य में स्मार्ट मीटर लगाए जाने में मैनेजमेंट ने नियम और कानून की अनदेखी की है. उपभोक्ताओं के यहां स्मार्ट मीटर लगाने से पहले उसकी केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण के नियमानुसार तकनीकी जांच ही नहीं कराई गई थी. साथ ही, रिपोर्ट में मीटर निर्माता से लेकर उसे लगाने वाली कंपनी के साथ ही प्रबंधन भी सवालों के घेरे में आ गए हैं.

ये भी पढ़ें: Human Rights Day: विश्व में 72 तो देश में 27 साल पहले आया यह, जानिए क्या हैं आपके अधिकार

13 अगस्त को STF को सौंपी गई थी रिपोर्ट
बीती जन्माष्टमी के दिन स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं की बिजली अचानक गुल हो गई थी. इस मामले को प्रदेश सरकार ने गंभीरता से लिया और 13 अगस्त को पूरे मामले की जांच उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स को सौंपी गई. शुरुआत में एसटीएफ को 3 दिन में जांच पूरी करने के निर्देश दिए गए थे. लेकिन एसटीएफ को इसमें तकरीबन 4 महीने लग गए. जांच में प्रबंधन की लापरवाही सामने आई है.

ये भी पढ़ें: सेहत के लिए बुरे नहीं होते Popcorn, इन बीमारियों से रखते हैं दूर

तकनीकी पहलू की जांच कराने की सिफारिश
रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि स्मार्ट मीटर लगाने से पहले अवस्थापना सुविधाओं (Infrastructure Facilities) पर भी ध्यान नहीं दिया गया. जो पैरामीटर तय किए गए थे, उनकी अनदेखी करते हुए सिस्टम की निगरानी, सॉफ्टवेयर अपग्रेडेशन, आदि की उचित व्यवस्था न करने से स्मार्ट मीटर में अभी भी खामियां बनी हुई हैं. रिपोर्ट में जिक्र किया गया है कि स्मार्ट मीटर में खामियों की लगातार मिल रही शिकायतों पर प्रबंधन ने कोई एक्शन नहीं लिया. इसके अलावा, एसटीएफ ने पूरे मामले में तकनीकी पहलू की जांच कराए जाने की सिफारिश की है.

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के युवाओं की बल्ले-बल्ले! नौकरियां देने में योगी सरकार ने बनाया नया रिकॉर्ड

प्रदेश में लगे 12 लाख स्मार्ट मीटर
राज्य में जीनस कंपनी के 12 लाख से ज्यादा स्मार्ट मीटर लगाए जा चुके हैं. कंट्रोल रूम में लगे सर्वर से स्मार्ट मीटर पर प्राइवेट कंपनी एलएंडटी (लार्सन एंड टुब्रो) और एनर्जी एफीशिएंसी सर्विसेस लिमिटेड (EESL) द्वारा नजर रखी जा रही है. बिजली गुल होने पर ईईएसएल के यूपी स्टेट हेड और एलएंडटी के यूपी में प्रोजेक्ट मैनेजर को निलंबित किया जा चुका है.

WATCH LIVE TV



[ad_2]

Source link

Related posts

PPE ड्रेस में ही नशे में फुटपाथ पर लुढ़का निगम कर्मचारी, दोस्त ने किट फाड़कर बाहर निकाला, देखें Video

News Malwa

MP News Live Updates: बड़वानी में पहाड़ से टकराई बस, बाल-बाल बचे 150 लोग, नशे में धुत था ड्राइवर

News Malwa

Indore News: पिछले 24 घंटे में मिला सिर्फ 1 नया मरीज, रिकवरी रेट 99 % से ज्यादा

News Malwa