मध्य प्रदेश

नए टाइगर्स की दहाड़ से फिर गूंजेगा Rajasthan का Nahargarh Biological Park !

[ad_1]

जयपुर: राजधानी जयपुर (Jaipur) के नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क (Nahargarh Biological Park) में लगातार वन्यजीवों की मौत के बाद नए मेहमान वन्यजीव लाने की विभाग योजना बना रहा है. 

यह भी पढ़ें- राजस्थान में 28 फरवरी 2021 तक इस विभाग ने जारी किया Red Alert, जानिए क्या है वजह

नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क (Nahargarh Biological Park) में जल्द ही नए मेहमान पर्यटकों को देखने को मिलेंगे. सफेद-गोल्डन टाइगर और एक लायंस लाने के प्रयास किए जा रहे हैं. नाहगरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क (Nahargarh Biological Park) में 13 महीने में 9 शेर, बाघ और एक पैंथर की मौत हो गई. उसके बाद अब नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क (Nahargarh Biological Park) खाली-खाली सा नजर आने लगा है.

यह भी पढ़ें- Territory को लेकर फिर भिड़ी मां-बेटी, टाइग्रेस एरोहेड और बेटी रिद्धि में जोरदार पंगा

एनिमल्स लाने की बात कह रहा वन विभाग 
नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क (Nahargarh Biological Park) में बिग कैट्स की मौत के बाद एनिमल्स एक्सचेंज कार्यक्रम (Animal Exchange Program) के तहत वन विभाग जल्द एनिमल्स लाने की बात कह रहा है. बायोलॉजिकल पार्क (Biological Park) में आने वाले पर्यटकों को दिखाने के लिए वन विभाग ने एनिमल्स एक्सचेंज कार्यक्रम (Animal Exchange Program) के तहत दूसरे जू से एनिमल्स लाने की योजना है. सीजेडए को एनिमल्स लाने के लिए पत्र लिखा है सीजेडए से अनुमति मिलने के बाद जल्द ही नाहरगढ़ बायोलॉजिक पार्क (Nahargarh Biological Park) नए मेहमान टाइगर की दहाड़ सुनाई देगी.

सफेद और गोल्डन टाइगर और लायंस जल्द ही लाए जाएंगे
नए टाइगर्स की दहाड़ से फिर से नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क (Nahargarh Biological Park) थर्राएगा. इन नए टाइगर्स भी पर्यटकों को देखने को मिलेंगे. इसके लिए वन विभाग नए मेहमान में सफेद और गोल्डन टाइगर और लायंस जल्द ही लाए जाएंगे. इस एक्सचेंज के बदले वन विभाग को अभिनंदन जू को भेडिया का जोड़ा, लेपर्ड का जोड़ा, दो घड़ियाल और दो चिंकारा देने के बदले सफेद टाइगर, गोल्ड टाइगर्स लाए जाएंगे. विभाग को एक लायंस पहले की एक्सचेंज कार्यक्रम स्वीकृत हो चुकी थी, जूनागढ़ से लाने बाकी हैं.

केनाइन डिस्टेंपर वायरस से गई थी सुजैन नाम की शेरनी की जान
पिछले साल 19 सितंबर यानी ठीक 13 महीने पहले केनाइन डिस्टेंपर नाम के वायरस ने नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क (Nahargarh Biological Park) में सुजैन नाम की शेरनी की जिंदगी को लील लिया था. इसके ठीक एक दिन छोड़कर यानी 21 सितंबर को इस वायरस ने रिद्धि नाम की बाघिन को मौत की नींद सुला दिया और 6 दिन बाद यानी 27 सितंबर को एकमात्र सफेद बाघिन सीता को भी केनाइन डिस्टेंपर ने हमसे छीन लिया. पिछले वर्ष जब 9 दिन में 3 बिग कैट की मौत हुई थी. अब बारी आई वर्ष 2020 की 10 जून को रूद्र नाम के बाघ शावक ने दम तोड़ दिया. आईवीआरआई बरेली से जो विसरा जांच रिपोर्ट आई उसमें लेप्टोस्पायरोसिस नाम के वायरस की पुष्टि हुई. अभी 24 घंटे भी रूद्र की मौत को नहीं हुए थे कि सिद्धार्थ नाम के शेर ने अगले ही दिन यानी 11 जून को दुनिया को अलविदा कह दिया. 

लेप्टोस्पायरोसिस वायरस ने ली बाघ की जान
सिद्धार्थ के रक्त के नमूनों में भी लेप्टोस्पायरोसिस वायरस (Leptospirosis Virus) पाया गया. उसके बाद 4 अगस्त को राजा नाम के सफेद बाघ ने इस दुनिया से विदा ले ली राजा के रक्त के नमूनों में भी यही जानलेवा वायरस पाया गया. लगातार हो रही बिग कैट्स की मौत के बाद बायोलॉजिकल पार्क के सभी बाघ, शेर और लेपर्ड के रक्त के नमूने लिए गए. इनमें लेपर्ड्स को छोड़कर बाघ और शेर की किडनी खराब पाई गई. सभी का क्रिएटनीन लेवल 3.5 से 4 तक पाया गया. नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क (Nahargarh Biological Park) में अभी यहां 2 शेर और 3 बाघ और शेर बचे हुए हैं. 

 



[ad_2]

Source link

Related posts

अद्भुत: पियानो बजाती रही 9 साल की सौम्या, डॉक्टरों ने सिर का ऑपरेशन कर निकाला ट्यूमर

News Malwa

MP Weather Alert: भोपाल में 41, खजुराहो में 44 डिग्री पहुंचा पारा, अभी और तीखे तेवर दिखाएगी गर्मी

News Malwa

मध्यप्रदेश में मध्य शिक्षा विभाग अब जॉब ओरिएंटेड कोर्स कर रहा शुरू, जल्‍द आ रहे डिप्लोमा और डिग्री कोर्स

News Malwa