देश

तनातनी के बीच भारत आएंगे नेपाल के विदेश मंत्री, दोनों देश के बीच सुधर सकते हैं रिश्ते

[ad_1]

नई दिल्लीः भारत और नेपाल के बीच अब रिश्ते फिर से पहले की तरह मजबूत होने वाले हैं. हाल ही में खबर थी भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली से फोन पर बातचीत की थी. इस बातचीत में लिपु लेख सीमा रेखा की वजह से दोनों देशों में बिगड़े रिश्ते को सामान्य करने पर दिया गया. इसी बीच खबर है कि इसी महीने यानी दिसंबर में नेपाल के विदेश मंत्री भारत आने वाले हैं. सूत्रों से जानकारी मिली है कि नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली (Pradeep Kumar Gyawali) भारत दौरे पर आने वाले हैं.

दिल्ली में होगी दोनों देश के नेताओं की ज्वाइंट मीटिंग
नेपाल के विदेश मंत्री की यात्रा की खबर भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला के काठमांडू दौरे के बाद आई है. मालूम हो कि आर्मी चीफ और इंटेलिजेंस चीफ की यात्रा के बाद विदेश सचिव श्रृंगला की नेपाल यात्रा भारत से तीसरी बड़ी विजिट थी. भारत की तरफ से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है, ‘विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने बताया कि भारतीय विदेश सचिव ने नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ग्यावली को ज्वाइंट कमीशन की मीटिंग में आने के लिए निमंत्रण भेजा था.’ संयुक्त आयोग (Joint Commission) की बैठक, जो 2 देशों के बीच वैकल्पिक होती है, इस साल यह मीटिंग राजधानी दिल्ली में हो रही है. पांचवी ज्वाइंट कमीशन की मीटिंग अगस्त 2019 में काठमांडू में हुई थी. तब विदेश मंत्री एस जयशंकर काठमांडू गए थे और इस बार प्रदीप ग्यावली भारत आ रहे हैं. 

ये भी पढ़ें-Indian Navy की ताकत बढ़ी, एंटी शिप मिसाइल Brahmos का सफल परीक्षण

नेपाल के साथ कई प्रोजेक्ट्स में शामिल है भारत
गौरतलब है कि भारत नेपाल के साथ कई प्रोजेक्ट्स में शामिल रहा है जिनमें जयनगर-कुर्था क्रॉस बॉर्डर रेल लाइन (Jayanagar-Kurtha Cross-Border Rail Line) के संचालन की योजना है. इससे पहले दोनों देशों ने मोतिहारी-अमलेखगंज पेट्रोलियम पाइपलाइन (Motihari–Amlekhgunj Petroleum Pipeline) का उद्घाटन किया, जो दक्षिण एशिया में पहली क्रॉस कंट्री पाइपलाइन है. पाइपलाइन नेपाल में दो मिलियन मीट्रिक टन पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स को ले जा सकती है जिसके चलते अब तक 800 मिलियन से अधिक नेपाली रुपये की बचत हुई है.

ये भी पढ़ें-Kim Jong Un ने ​परिवार के साथ चुपके से लगवा ली Corona Vaccine?

चीन के बहकावे में आकर नेपाल ने भारत से खराब किए थे रिश्ते
चीन के प्रभाव में आकर नेपाल ने भारत के साथ बीच में संबंध खराब किए थे लिहाजा दोनों देशों के विदेश मंत्रियों कीे दिसंबर में होने वाली ज्वाइंट मीटिंग काफी अहम मनी जा रही है. बता दें कि पिछले दिनों केपी ओली एक ने नेपाल का एक नया नक्शा जारी किया था जिसमें भारत के हिस्सों को अपने देश में शामिल बताया था. 



[ad_2]

Source link

Related posts

Karnal: पुलिस और किसानों के बीच भिड़ंत, हालात काबू करने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल

News Malwa

Super Exclusive- Zee News के पास सुशील कुमार के गुनाह का सबसे बड़ा सबूत

News Malwa

Coal Scam: कोलकाता समेत 5 ठिकानों पर CBI रेड, मुख्य आरोपी के करीबी पर कसा शिकंजा

News Malwa