मध्य प्रदेश

इन 6 लोगों की मदद से पकड़ में आया था गैंगस्टर विकास दुबे, अब योगी सरकार देगी 5 लाख इनाम

[ad_1]

उज्जैन: उत्तर प्रदेश के कानपुर में सीओ देवेंद्र मिश्र समेत आठ पुलिस कर्मियों को मौत के घाट उतार कर फरार हुए इनामी कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे की पहचान और उसकी गिरफ्तारी में मदद करने वालों को उज्जैन पुलिस ने खोज निकाला है. इन छह लोगों को अब उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से घोषित पांच लाख का इनाम दिया जाएगा. इन 6 लोगों में पुलिस जवान और आम आदमी शामिल हैं.

2020 का सबसे बड़ा 420: SBI ATM को बनाया पैसा छापने की मशीन, लगाया करोड़ों का चूना

इस तरह से हुई थी गिरफ्तारी
गैंगस्टर विकास दुबे राजस्थान फरारी काटने पहुंचा था. जिसके बाद वह अलवर से झालावाड़ तक राजस्थान परिवहन की बस से आया था और यहां से एक प्राइवेट बस में बैठकर उज्जैन पहुंचा था. जहां महाकाल दर्शन किये. जहां उसे फूल प्रसादी विक्रेता ने पहचान लिया और तत्काल मंदिर के सुरक्षा गार्ड को अलर्ट कर महाकाल थाना पुलिस को सूचित किया था. जिसके बाद तत्कालीन एसपी मनोज कुमार के निर्देशन में एक टीम गठित कर अपराधी को धर दबोचा गया. 

इन्होंने देखा सबसे पहले
उप्र के कानपुर में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या करने वाले विकास दुबे को सबसे पहले मंदिर के बाहर हार फूल बेचने वाले सुरेश कहार ने पहचाना, उसने मंदिर के निजी सिक्योरिटी गार्ड राहुल शर्मा व धर्मेंद्र परमार को बताया, सुरेश ने बताया कि उसने न्यूज़ चैनलों में विकास दुबे की फोटो देखी थी और उसके बाद ही वो पहचान कर पाया, जिसके बाद तीनों ने महाकाल चौकी पर तैनात आरक्षक विजय राठौर, जितेंद्र कुमार, परशराम को जानकारी दी. तीनों पुलिस कर्मी विकास को हिरासत में लेकर चौकी आये थे.

यात्री कृपया ध्यान दें: भोपाल स्टेशन से गुजरने वाली 12 ट्रेनों का समय बदला, जानें नया शेड्यूल

तीन अधिकारियों की टीम ने तय किये नाम
पांच लाख के इनामी गैंगस्टर विकास दुबे को पकड़ने वालों के नाम पता करने के मामले में तत्कालीन एसपी मनोज कुमार ने 3 अपर पुलिस अधीक्षक की टीम तैयार की थी. जिसमे एएसपी अमरेंद्र सिंह, एएसपी आकाश भूरिया व तत्कालीन एएसपी रूपेश भूरिया के नाम थे. पुलिस अधिकारियों ने जहां-जहां विकास दुबे गया वहां के तमाम CCTV फुटेज के हिसाब से चश्मदीदों के बयान लिये और तब जाकर यह 6 नाम फाइनल कर रिपोर्ट सौंपी.

इनाम की राशि उप्र लेने जाने में है डर
विकास दुबे को सबसे पहले पहचाने वाले फूल प्रसादी विक्रेता सुरेश कहार को खुशी के साथ साथ डर भी है. उसका कहना है कि राशि से में अच्छा रोजगार स्थापित तो कर लूंगा लेकिन वहां जाकर राशि लेना मेरे लिए चिंताजनक है. मुझे सुरक्षा चाहिए उसका एक विकलांग बच्चा है जिसकी वजह से उसे डर है कि उसे कुछ हो गया तो परिवार को कौन संभालेगा.

CM शिवराज सिंह ने बताया कब खुलेंगे स्कूल, अतिथि शिक्षकों के लिए सुनाई ये खुशखबरी…

सभी को सुरक्षा भी दी जाएगी
एसपी सत्येन्द्र कुमार शुक्ल ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि केके कमिटी गठित की गई थी. जिसकी रिपोर्ट आज प्राप्त हुई है. जिसमे 6 नाम मुझे मिले है अब आगे जो भी प्रकिया होगी उसे पूर्ण किया जाएगा. वहीं सुरेश कहार के डर पर कहा कि ऐसा है तो राशि लेने जाने में सभी को सुरक्षा दी जाएगी.

WATCH LIVE TV



[ad_2]

Source link

Related posts

MP News Live: आईआईएम की सलाह से बनेगी प्रदेश की उद्योगनीति

News Malwa

MP School News: अभी नहीं खुलेंगे मध्य प्रदेश में स्कूल, सरकार ने मांगे सभी से सुझाव  

News Malwa

हाथरस गैंगरेप मामला: CBI ने दाखिल की चार्जशीट, बताया पूरा घटनाक्रम

News Malwa